शब्द बहुत कुछ कह जाते हैं...

कुछ हक़ीकत से रूबरू...कुछ मन की गुफ्तगू...

49 Posts

47 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 24142 postid : 1313477

जमाना आजकल.......कविता

Posted On: 10 Feb, 2017 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

नज़र का नज़रिया कुछ गिरा इस कदर
गिरा हुआ हर आदमी अब बुलंद नज़र आता हैं !

मान भगवंत बैठे हैं नशेबाजों को लोग यहाँ
लड़खड़ाता हुआ जो रोज रात घर जाता हैं !

हो खुदा मौजूद क्यों भला मंदिर मस्जिद में
जब दरिंदो के पाँवो में आदमी सर झुकाता हैं !

पेट पलता नही मेहनती उन किसानो का
जो होकर बंधक ज़मीदार के जहर ख़ाता हैं !

शोहरतें हासिल तो उन कलाकारों को हैं
जिस्मफरोशी का आजकल जिनको हुनर आता हैं !

हैं नसीब सिंहासन यहाँ बेशर्म बेशुमारों को
जिंदा रहते जिनका जमीर मर जाता हैं !

देश की राजनीति भी लूटते खजाने सी हैं
फट गया चौला आख़िर सेर में सवाया किधर आता हैं !

जी रहा हैं जिंदगी आदमी नर्क सी यहाँ
हूँ बेख़बर बाद मरने के आदमी किधर जाता हैं !

छुप रही अंधेरे में भूत की परछाईयाँ
आदमी ही आदमी से यहाँ जो डर जाता हैं !

मर्ज कोई हो असर दवा का होता नही
दारू का मगर जल्दी कितना असर आता हैं !

रिश्ता होता नही अब गाँव के गोपालों का
गाँव की लाडली को भी ससुराल शहर भाता हैं !

दिल ही जानता नही अब दिल की हसरते
दौलत की चाह में जिस्म कही भी पसर जाता हैं !

रंग चढ़ता हैं देशभक्ति का महज चन्द मौको पर
अवसर जाते ही रंग मेहन्दी सा उतर जाता हैं !

गेंद सीमा पार करने वाले को रत्न भारत
महज चक्र अशोक उसको जो सीमा पर गुजर जाता हैं !

हौसला पस्त सा फिरता हैं हर नेक आदमी
झूठ का सामना आजकल सच कहाँ कर पाता हैं !

करते कर्म पुण्य के शुरू “जीत” जब तक
घड़ा पाप का तब तलक सबका भर जाता हैं !
जितेंद्र अग्रवाल “जीत”
मुंबई..मो. 08080134259

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



latest from jagran