शब्द बहुत कुछ कह जाते हैं...

कुछ हक़ीकत से रूबरू...कुछ मन की गुफ्तगू...

49 Posts

47 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 24142 postid : 1195899

दिल्ली ने क्या चुन लिया ?

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अक्ल के अमीरों ने कैसे अक्ल के कंगाल को चुना
या थे नींद में गहरी या अंधेरे में “केजरीवाल” को चुना !

शैतानो के शोर से जहाँ सहमी थी दिल्ली की गलियाँ
वहाँ शांति की खातिर जनता ने बड़े बवाल को चुना !

“निर्भया” जैसी कली को नोचा था जहाँ इंसानी कुत्तों ने
वहाँ फूलों की हिफ़ाज़त में चुभते कांटों की ढाल को चुना !

निहार रही थी नम आँखें जहाँ विकास की बारिश को
वहाँ बारिश की चाहत में पंचवर्षीय अकाल को चुना !

बेसूध थी बस्तियाँ जो बदनसीबी की बेवसी के आगे
दिया तकदीर ने मौका तो बद से बदतर हाल को चुना !

हास्यास्पद हरकतों का नृत्य “मोदी राग” के संग संग
मतों की बहुतायत से हास्य अभिनेता कमाल को चुना !

खुद की ज़िम्मेदारियों का ज़िक्र तक नही ज़रा भी
ढूँढना था जबाब वहाँ खुद एक जटिल सवाल को चुना !

ज़रूरत थी जहाँ चौड़ी चादर की दिल्ली की देह ढकने
जाने किस बहकावे में आकर लोगो ने रुमाल को चुना !

जहाँ प्रज्वलित हुआ भारत दिवाली के दीप सा दुनिया में
वहीं दिल्ली ने जाने क्यूँ रंग बिरंगी होली की गुलाल को चुना !

बढ़ा रहे हैं लोग “जीत” जहाँ सीढ़ियाँ अंबर की ओर
वही नित धरती में धँसने दिल्ली ने पाताल को चुना !

लेखक:- जितेंद्र हनुमान प्रसाद अग्रवाल “जीत”
मुंबई..मो.08080134259
Image0011



Tags:     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Shobha के द्वारा
June 30, 2016

प्रिय जितेन्द्र क्या कविता लिखी है हंस हंस कर हालत खराब हो गई जीते रही केजरी वाल को वोट दें ने ऐसे लोग आये थे जैसे कोइ धार्मिक काम करने आएं हैं |

JITENDRA HANUMAN PRASAD AGARWAL के द्वारा
July 1, 2016

अति आभार !


topic of the week



latest from jagran